Shayari

Latest Updates

Shayari    ||     Sad shayari

आज मन जाने क्यूँ अशांत है , या फिर यूं कहें दिग्भ्रान्त है ।

आज मन जाने क्यूँ अशांत है , या फिर यूं कहें दिग्भ्रान्त है ।
इन तमाम उलझनों के बीच भी , लेकिन यह विश्रांत है ।
जाने अबतक इसने पाया दुनिया से दुख, या सुख की छाया ?
भटका खुद ही इधर उधर , या तृष्णा ने इसको भटकाया !
नियति-नटी ने रंगमंच पर , नाहक ही क्या इसे नचाया ?
बहुत हुआ विस्मित, कुण्ठित, पर भेद समझ में कुछ न आया ।
किंतु अदम्य जिजीर्षु-प्राण यह , उत्साहित उद्गान्त है ।
इन तमाम उलझनों के बीच भी, लेकिन यह विश्रांत है ।
लेकिन यह विश्रांत है ।।

Shayari    ||     Sad shayari

दिल का दर्द दिल तोड़ने वाले क्या जाने,

दिल का दर्द दिल तोड़ने वाले क्या जाने,
प्यार के रिवाज़ो को ज़माना क्या जाने,
होती कितनी तकलीफ़ लड़की पटाने मैं,
ये घर पे बैठा लड़की का बाप किया जाने. ..
वो दिन दिन नही..वो रात रात नही..
वो पल पल नही जिस पल आपकी बात नही..
आपकी यादो से मौत हमे अलग कर सके.
मौत की भी इतनी भी औकात नही

Shayari    ||     Hindi Shayari

नर नाहर में अब क्या अन्तर ?

नर नाहर में अब क्या अन्तर ?

नाहर निज क्षुधा तृप्ति के वश, होकर मृगया कर लेता है।
पर मानव क्यों दानव बनकर निर्मम हत्या कर देता है ?

क्या यही धर्म का पालन है ? क्या यही सृष्टि का नियमन है ?
या यह तृष्णा की साजिश है, या हैवानों की मजलिस है !

क्यों मानव ही मानव को अब नित नई यातना देता है?
सब एक पिता की सन्तति हैं कयों यह विस्मृत कर देता है।

क्यों सृष्टि-स्वरूपा आदि शक्ति कन्या भोग्या बन जाती है? 
निर्दोष, दीन मानवता अब दर- दर की ठोकर खाती है ।

क्या यही प्रगति का लक्षण है? क्या यही सभ्यता है युग की ?
क्या यही मार्ग है उन्नति का ? क्या यही नियति है इस जग की !

अब भी यदि नहीं रुका सब तो ब्रह्मांड हमें धिक्कारेगा !
फिर 'मानव' क्या ''दानव'' कह भी 
क्या ! कोई हमें पुकारेगा ?

 

Shayari    ||     Sharabi Shayari

इश्क़ ने हमे बेनाम कर दिया

इश्क़ ने हमे बेनाम कर दिया,
हर खुशी से हमे अंजान कर दिया,
हमने तो कभी नही चाहा की
हमे भी मोहब्बत हो,
लेकिन आप की एक नज़र ने हमे
नीलाम कर दिया…………..

Shayari    ||     Love Shayari

वो अपने मेहंदी वाले हाथ मुझे दिखा कर रोई,

दिल का दर्द दिल तोड़ने वाले क्या जाने,
प्यार के रिवाज़ो को ज़माना क्या जाने,
होती कितनी तकलीफ़ लड़की पटाने मैं,
ये घर पे बैठा लड़की का बाप किया जाने. ..
वो दिन दिन नही..वो रात रात नही..
वो पल पल नही जिस पल आपकी बात नही..
आपकी यादो से मौत हमे अलग कर सके.
मौत की भी इतनी भी औकात नही

-----------------------------------------------------------------

अपने लफ़्ज़ों से चुकाया है किराया इसका,
दिलों के दरमियां यूँ मुफ्त में नहीं रहती,
साल दर साल मै ही उम्र न देता इसको,
तो ज़माने में मोहब्बत जवां नहीं रहती

--------------------------------------------------------------------------------

खुशहाली में इक बदहाली, तू भी है और मैं भी हूँ
हर निगाह पर एक सवाली, तू भी है और मै भी हूँ
दुनियां कुछ भी अर्थ लगाये,हम दोनों को मालूम है
भरे-भरे पर ख़ाली-ख़ाली , तू भी है और मै भी हूँ

-----------------------------------------------------------------

मन से जब पीड़ा रूठ गई

लिखने की आदत छूट गई
कवि बनने की अभिलाषा थी
वो घीरे धीरे टूट गई
मन बोझिल सा हो जाता है जब
शाम सुहानी लगती है
क्योंकि तब लिखने की खातिर
फिर कलम उठानी पड़ती है |
मन को कितना ही समझाया
यूँ नहीं शरारत करते हैं
क्यों कहते थे पहले तुम
'हम कविताई का दम भरते हैं'
हम राह बचाकर चलते हैं
कोई हिस्सा ना मिल जाए
मन का खोया सपनीला सा
कोई किस्सा ना मिल जाए
हम जानबूझकर कहते हैं
बदनाम कहानी लगती है
क्योंकि तब लिखने की खातिर
फिर कलम उठानी पड़ती है

----------------------------------------------

ऐसे चुप है कि ये मंज़िल भी कड़ी हो जैसे,

तेरा मिलना भी जुदाई की घड़ी हो जैसे।
अपने ही साये से हर गाम लरज़ जाता हूँ,
रास्ते में कोई दीवार खड़ी हो जैसे।
कितने नादाँ हैं तेरे भूलने वाले कि तुझे
याद करने के लिए उम्र पड़ी हो जैसे।
मंज़िलें दूर भी हैं, मंज़िलें नज़दीक भी हैं,
अपने ही पाँवों में ज़ंजीर पड़ी हो जैसे।

------------------------------------------------------

वो अपने मेहंदी वाले हाथ मुझे दिखा कर रोई,

अब मैं हुँ किसी और की, ये मुझे बता कर रोई,
पहले कहती थी कि नहीं जी सकती तेरे बिन,
आज फिर से वो बात दोहरा कर रोई...
कैसे कर लुँ उसकी महोब्बत पे शक यारो...!!
वो भरी महफिल में मुझे गले लगा कर रोई

-------------------------------------------------------

 

Shayari    ||     Heart touching Shayari

जिंदगी भर दर्द से जीते रहे . दरिया पास था आंसुओं को पीते रहे

जिंदगी भर दर्द से जीते रहे ..
दरिया पास था आंसुओं को पीते रहे..
कई बार सोंचा कह दू हाल-ए-दिल उससे..
पर न जाने क्यूँ हम होंठो को सीते रहे..

-------------------------------------------------------------

बिन बात के ही रूठने की आदत है..

किसी अपने का साथ पाने की चाहत है..
आप खुश रहें, मेरा क्या है..
मैं तो आइना हूँ, मुझे तो टूटने की आदत है.

--------------------------------------------------------------

थोडा सा किसी की मुलाकात में भी रहना .

एक वक़्त किसी की आँख में भी रहना ..
यहाँ एक दिल को सौ खंजर ताकते है ..
कभी कभी अपने आप में भी रहना.

-------------------------------------------------------------

लम्हा लम्हा सांसें ख़तम हो रही हैं ..

ज़िंदगी मौत के पहलू में सौ रही है ..
उस बेवफा से ना पूछो मेरी मौत की वजह ..
वो तो ज़माने को दिखाने के लिए रो रही है

------------------------------------------------------------------

क्यो किसी से इतना प्यार हो जाता है,

एक पल का इंतज़ार भी दुश्वार हो जाता है,
लगने लगते है अपने भी प्यारे,
और एक अजनबी पर ऐतबार हो जाता है

----------------------------------------------------------------------

मुल्क तेरी बर्बादी के आसार नज़र आते है ,

चोरों के संग पहरेदार नज़र आते है
ये अंधेरा कैसे मिटे , तू ही बता ऐ आसमाँ ,
रोशनी के दुश्मन चौकीदार नज़र आते है
हर गली में, हर सड़क पे ,मौन पड़ी है ज़िंदगी
हर जगह मरघट से हालात नज़र आते है
सुनता है आज कौन द्रौपदी की चीख़ को हर
जगह दुस्साशन सिपहसालार नज़र आते है
सत्ता से समझौता करके बिक गयी है लेखनी
ख़बरों को सिर्फ अब बाज़ार नज़र आते है
सच का साथ देना भी बन गया है जुर्म अब
सच्चे ही आज गुनाहगार नज़र आते है
मुल्क की हिफाज़त सौंपी है जिनके हाथों मे
वे ही हुकुमशाह आज गद्दार नज़र आते है
खंड खंड मे खंडित भारत रो रहा है ज़ोरों से
हर जाति , हर धर्म के, ठेकेदार नज़र आते है

Shayari    ||     Others Shayari

माँ तेरी याद सताती है, मेरे पास आ जाओ, थक गई हुँ,

माँ तेरी याद सताती है, मेरे पास आ जाओ,
थक गई हुँ, मुझे अपने आँचल में सुलालो....
उँगलीयाँ अपनी फेर कर बालों मे मेरे,
एक बार फिर से बचपन की लोरीयाँ सुनाओ

---------------------------------------------------------

पलकों में आँसु और दिल में दर्द सोया है,

हँसने वालो को क्या पता, रोने वाला किस कदर रोया है,
ये तो बस वही जान सकता है मेरी तनहाई का आलम,
जिसने जिन्दगी में किसी को पाने से पहले खोया है..!!

-------------------------------------------------------------

ख़ुद का तकिया ख़ुद की चादर और दरी

इन सबसे है मेरी बगिया हरी - भरी
ये भी सच है इस दुनिया में लोगों का
पेट भरा है लेकिन नीयत नहीं भरी
खोटे लोगों को इसलिए अखरता हूँ
बात हमेशा कहता हूँ मैं खरी -खरी
बिल्कुल मेरी बिटिया जैसी लगती थी
कल जो सपने में आयी थी एक परी

---------------------------------------------------

कुछ रिश्ते अंजाने में ही हो जाते है,

पहले दिल फिर जिन्दगी से जुड़ जाते है,
कहते है उस दौर को प्यार...
जिसमें लोग जिन्दगी से भी प्यारे हो जाते है.

---------------------------------------------------

इतनी आसानी से कैसे भुल जाता है कोई,

रह-रह कर क्यों याद आता है कोई,
उमर भर याद करता रहेंगे आपको,
देखते है कब तक हमें भुलाता है कोई

--------------------------------------------------

फुल हो तुम मुरझाना नहीं

साथ छोड़ के कभी दूर जाना नहीं
जब तक हम जिन्दा है ऐ दोस्त
कभी किसी से घबराना नहीं

-------------------------------------------------

खिड़की से झांकता हूँ मै सबसे नज़र बचा कर

बेचैन हो रहा हूँ क्यों घर की छत पे आ कर
क्या ढूँढता हूँ जाने क्या चीज खो गई है
इन्सान हूँ शायद मोहब्बत हमको भी हो गई

 

Shayari    ||     Others Shayari

कभी ठंड में ठिठुर के देख लेना, कभी तपती धूप में जल के देख लेना

कभी ठंड में ठिठुर के देख लेना
कभी तपती धूप में जल के देख लेना
कैसे होती है हिफाज़त मुल्क की
कभी सरहद पर चल के देख लेना
कभी दिल को पत्थर करके देख लेना
कभी अपने जज्बातों को मार के देख लेना
कैसे याद करते है मुझे मेरे अपने
कभी अपनों से दूर रहकर देख लेना
कभी वतन के लिए सोच के देख लेना
...कभी माँ के चरण चूम के देख.

-----------------------------------------------------------

सिर्फ इशारों में होती महोब्बत अगर,

इन अलफाजों को खुबसूरती कौन देता?
बस पत्थर बन के रह जाता “ताज महल”
अगर इश्क इसे अपनी पहचान ना देता

---------------------------------------------------------------

कसूर ना उनका है ना मेरा,

हम दोनो रिश्तों की रसमें निभाते रहे,
वो दोस्ती का ऐहसास जताते रहे,
हम महोब्बत को दिल में छुपाते रहे

-----------------------------------------------------------

इश्क है मेरा , कोई दगा नहीं

इस तरहा से दिल मेरा, कभी लगा नहीं
लिखी थी कवितायेँ ,
संजोये थे कई सपने
मिलेगी कोई शह्जादी ख्वाबों की
सुनाता जिसे अरमान अपने
मुद्दतों से तलाश में हूँ मगर,
इस तरह से अपना कोई लगा नहीं
इश्क है मेरा , कोई दगा नहीं
इस तरहा से दिल मेरा, कभी लगा नहीं

-----------------------------------------------------

दोस्तों की कमी को पहचानते है हम,

दुनियाँ के गमों को भी जानते है हम,
आप जैसे दोस्तों के ही सहारे..
आज भी हँस कर जीना जानते है हम

-------------------------------------------------------

तन्हाईयों में मुस्कुराना इश्क है;

एक बात को सबसे छुपाना इश्क है;
यु तो नींद नहीं आती हमें रात भर;
मगर सोते-सोते जागना और जागते-जागते सोना इश्क है!

-----------------------------------------------------------

मैं प्यार भी दूंगी, दुलार भी दूंगी,

सार भी दूंगी, ये संसार भी दूंगी,
मुसीबत के समय
देश के लिये जिंदगी वार भी दूंगी,
इसलिए मत मारो मुझे|

मैं इज्जत भी दूंगी, जन्नत भी दूंगी,
सोहरत भी दूंगी, ताकत भी दूंगी,
मोका मिला तो
हर सपना हकीकत कर दूंगी,
इसलिए मत मारो मुझे|

पढूंगी, लिखूंगी अफसर बन जाऊँगी,
पर तुम्हारे सामने सदा शीश झुकाऊँगी 
और समय आने पर
घर को स्वर्ग बनाउंगी,
इसलिए मत मारो मुझे|

अगर किसी कारणवस रह गई अनपढ़,
तो भी घर का सारा काम करवाउंगी,
गिनकर रात के तारों को,
तुमको अच्छी नींद सुलाऊँगी,
इसलिए मत मारो मुझे अपनी कोख से|

 

Shayari    ||     Hindi Shayari

खुद को ख़ुदा कहा और खुद ही ख़ुदा हो गए,

खुद को ख़ुदा कहा और खुद ही ख़ुदा हो गए,
रिश्तों की कशमकश में खुद से जुदा हो गए !
बांचते रहे तमाम उम्र आईने में अपनी सूरत,
तन्हा रहे जिंदगी में और भीड़ में ही खो गए !!

----------------------------------------------------------

कामयाबी कभी बड़ी नही होती,

पाने वाले हमेशा बड़े होते है.
दरार कभी बड़ी नही होती,
भरने वाले हमेशा बड़े होते है.
इतिहास के हर पन्ने पर लिखा है,
दोस्ती कभी बड़ी नही होती,
निभाने वाले हमेशा बड़े होते है

--------------------------------------------------

मे तोड़ लेता अगर तू गुलाब होती

मे जवाब बनता अगर तू सबाल होती
सब जानते है मैं नशा नही करता,
मगर में भी पी लेता अगर तू शराब होती!

----------------------------------------------------

पलकों को कभी हमने भिगोए ही नहीं,

वो सोचते हैं की हम कभी रोये ही नहीं,
वो पूछते हैं कि ख्वाबो में किसे देखते हो?
और हम हैं की उनकी यादो में सोए ही नहीं!

-----------------------------------------------------

कोई रास्ता नही दुआ के सिवा

कोई सुनता नही खुदा के सिवा
मैने भी ज़िंदगी को करीब से देखा है मेरे दोस्त
मुस्किल मे कोई साथ नही देता आँसू के सिवा

------------------------------------------------------

बहुत खूब सूरत है आखै तुम्हारी

इन्हें बना दो किस्मत हमारी
हमें नहीं चाहिये ज़माने की खुशियाँ
अगर मिल जाये मोहब्बत तुम्हारी

---------------------------------------------------------

निकलते है तेरे आशिया के आगे से,सोचते है की तेरा दीदार हो जायेगा,

खिड़की से तेरी सूरत न सही तेरा साया तो नजर आएगा

-------------------------------------------------------------

दोस्ती करो BSNL वाली से

प्यार करो IDEA वाली से.
बात करो airtel वाली से.
आँख लड़ाओ vodafone वाली से.
पर दोस्तो
शादी करना बिना मोबाइल वाली से.

-----------------------------------------------------

एक माँ ऐसी भी होती है

घुंगरू की जंजीर में बंधी होती है
ज़माने की जेल में उसे तबायफ
रहने के सजा मिली होती है !

दिल उसका खून के आंसु रोता है
आँखे सहरा जैसे सूख गयी होती है
अपने बच्चे को स्कूल भेजकर नए नए
सपने संजो रही होती है ! एक माँ ……..

समाज के ठेकेदारों ने ऐसा कर दिया
एक बेबुस को वैश्या कर दिया
अपने बच्चे को ख़ुशीया देने वास्ते
हर जुल्मो – सितम सह रही होती है!

तू कल जब बड़ा हो जायेगा
अपनी मंजिल अपना मुकाम पायेगा
तू कही उस माँ को छोड़ न दे
इस डर से मेरी कलम आगे लिख पति है ! एक माँ

 

Shayari    ||     Sad shayari

पत्थर की दुनिया जज़्बात नही समझती,

सूरज आग उगलता है
सहना धरती को पड़ता है
मोह्हबत निगाहे कराती है
सहेना दिल को पड़ता है…

-----------------------------------------------------

अपनो को दूर होते देखा ,

सपनो को चूर होते देखा !
अरे लोग कहते हे फ़िज़ूल कभी रोते नही ,
हमने फूलोँ को भी तन्हाइयोँ मे रोते देखा!

------------------------------------------------------

पत्थर की दुनिया जज़्बात नही समझती,

दिल में क्या है वो बात नही समझती,
तन्हा तो चाँद भी सितारों के बीच में है,
पर चाँद का दर्द वो रात नही समझती

-------------------------------------------------------

Shayari    ||     Love Shayari

मोहब्बत करली तुमसे बहुत सोचने के बाद,

मोहब्बत करली तुमसे बहुत सोचने के बाद,
अब किसिको देखना नही तुम्हे देखने के बाद,
दुनिया छोड़ देंगे तुम्हे पाने के बाद,
खुदा मांफ करे इतना झूठ बोलने के बाद

----------------------------------------------------------

भुलाना आपको ना आसान होगा,

भुले जो आपको वो नादान होगा,
आप बसते हो दिल में हमारे,
आप हमें ना भुलें ...
.... ये आपका ऐहसान होगा...!!

-----------------------------------------------------------

दिल पे क्या गुज़री वो अनजान कए जाने,

प्यार किसे कहते है वो नादान क्या जाने,

हवा के साथ उड़ गये घर इस परिंदे का,

कैसे बना था घोसला वो तूफान क्या जाने !

----------------------------------------------------------

प्यार को जब प्यार से प्यार हुवा
तो प्यारने प्यारको प्यारसे पुछाः
प्यार केसा होता है ?
तो प्यारने प्यारको प्यारसे कहाः
जो ईश प्यारीसी शायरी को पढ रहा है
प्यार उनके जैसा प्यारा होता है ।

---------------------------------------------------------

हम कह पाते काश उन्हें के उन्ह दिल में बसाया है

दुनिया की निगाहों से उन्हें हमेशा छुपाया है
हम ज़ाहिर नहीं करना चाहते है अपने दिल की आशिकी को
के हमने अपने यार को ही अपना रब्ब बनाया है

---------------------------------------------------------

हमारे बिन अधूरे तुम रहोगे,

कभी चाहा था किसी ने,तुम ये खुद कहोगे,
न होगे हम तो किसी ने ,तुम ये खुद कहोगे,
मिलेगे बहुत से लेकिन कोई हम सा पागल ना होगा.

--------------------------------------------------------------

जब आपका नाम ज़ुबान पर आता है,

पता नही दिल क्यों मुस्कुराता है,
तसल्ली होती है हमारे दिल को,
कि चलो कोई तो है अपना, जो
हर वक़्त याद आता है.

 

Shayari    ||     Santa Banta Jokes

जीना चाहता हूँ मगर जिदगी राज़ नहीं आती,

जीना चाहता हूँ मगर जिदगी राज़ नहीं आती,
मरना चाहता हूँ मगर मौत पास नहीं आती,
उदास हु इस जिनदगी से,
क्युकी उसकी यादे भी तो तरपाने से बाज नहीं आती 

---------------------------------------------------------------

दुनिया में धोखा आम बात है।

अब सूरज को ही देख लो

आता है किरण के साथ

रहता है रोशनी के साथ

और जाता है संध्या के साथ।

------------------------------------------------------------------

ज़िंदगी ज़िंदगी नहीं जबतक मोहब्बत होती नही
ज़िंदगी ज़िंदगी नहीं जबतक मोहब्बत होती नही

मोहब्बत मोहब्बत नही जब तक हसा कर रुला देती नही

 

 

------------------------------------------------------------------------

दिल से निकली हे दुआ हमारी
जिन्दगी में मिले आपको खुशिया
गम न दे खुदा आपको कभी
चाहे तो एक ख़ुशी कम कर ले हमारी

----------------------------------------------------------------

ए खुदा मोहूबत भी तूने अजीब चीज बनाए है,
तेरे ही बन्दे तेरी मस्जिद में तेरे ही सामने रोते है,
लेकिन तुजे नहीं किसी और को पानेके लिये

------------------------------------------------------------------

जी भर क देखू तुझे अगर गवारा हो .
बेताब मेरी नज़रे हो और चेहरा तुम्हारा हो .
जान की फिकर हो न जमाने की परवाह .
एक तेरा प्यार हो जो बस तुमारा हो!

-------------------------------------------------------------

जीना चाहता हूँ मगर जिनदगी राज़ नहीं आती ,
मरना चाहता हूँ मगर मौत पास नहीं आती ,
उदास हूँ इस जिनदगी से ,
क्युकी उसकी यादे भी तो तरपाने से बाज नहीं आती 

--------------------------------------------------------------

ये किताबों के किस्से , ये फसानो की बातें ,
निगाहों की झिलमिल जुदाई की रातें|
महब्बत की कसमें , निभाने के वादे ,
ये धोखा वफ़ा का , ये झूठे इरादे |
ये बातें किताबी ,ये नज्में पुरानी ,
ना इन्की हकीक़त, ना इनकी कहानी|
न लिखना इन्हें , ना महफूज़ करना ,
ये जज्बे हैं बस, इनको महसूस करना.

--------------------------------------------------------------

 

चल मेरे हमनशीं चल अब इस चमन मे अपना गुजारा नही,

बात होती गुलोँ तक तो सह लेते हम अब तो काँटो पे हक़ भी हमारा नही”

“कभी चाहा तुझे ऐसा की रब जैसा पूजा, किस जगह मैने तुझे पुकारा नही,
यु दर्द देकर क्या मिला तुजे? कह देते की तुमसे मिलना अब गँवारा नही”

“अब चला हु घर से ये सोचकर कि इस साहिल का कोई किनारा नही,
ढुंढुगा उसे ईस नजर से ना पा सका तो अब कोई नजारा नही”

ऍ जालिमो अपनी किस्मत पे इतना नाज ना करो.
वक्त तो बदलता ही रहता है,
वो सुनेगा यकीँनन सदाऐँ ” अकेले की,
क्या खुदा सिर्फ तुम्हारा है, हमारा नही?

 

 

 

Shayari    ||     Sad shayari

हमारी किसी बात से खफा मत होना

कभी पहली बार स्कूल जानेमे डर लगता था…आज अकेले ही दुनिया घूम लेते हे ।।
पहले 1st नंबर लानेके लिए पढ़ते थे, आज कमाने के लिए पढ़ते हें !!

गरीब दूर तक चलता हे… खाना खाने के लिए…
अमीर दूर तक चलता हे … खाना पचाने के लिए …

कीसी के पास खाने के लिये एक वक्त की रोटी नहीं हे …..
कीसी के पास रोटी खाने के लिए वक़्त ही नहीं हे …

कोई लाचार हे इस लिए बीमार हे, कोई बीमार हे इस लिये लाचार हे
कोई अपनों के लिए रोटी छोड देता हे, कोई रोटी के लिए अपनों को छोड़ देता हे

ये दुनीया भी कितनी निराली हे .. कभी वक़्त मीले तो सोचना…

कभी छोटी सी चोट लगनेपे रोते थे, आज दिल टूट जाने पर भी संभल जाते हें!
पहेले हम दोस्तों के सहारे रहते थे, आज दोस्तों की यादो मे रहते है!
पहले लड़ना मारना रोज़ का काम था, आज एक बार लड़ते हें तो रिश्ते खो जाते हे!

सच में जिन्दगीने बहुत कुछ सिखादिया, जाने कब हम को इतना बड़ा बना दिया

-----------------------------------------------------------------------------------------------------

हमारी किसी बात से खफा मत होना,
नादानी से हमारी नाराज़ मत होना.
पहली बार चाहा है हमने किसी को इतना,
चाह कर भी कभी हमसे दूर मत होना

----------------------------------------------------------------------------

प्यार का शुक्रिया कुछ इस तरह अदा करू

आप भूल बी जाओ तो मे हर पल याद करू
प्यार ने बस इतना सिखाया हे मूज़े
की खुद से पहले आपके लिए दुआ करू..!!

----------------------------------------

दिल की हर बात ज़माने को बता देते है

अपने हर राज़ से परदा उठा देते है
चाहने वाले हमे चाहे या ना चाहे
हम जिसे चाहते है उस पर ‘जान’ लूटा देते है.

------------------------------------------------------------------

दुआ करते हैं हम सर झुका के,

आप अपनी मंज़िल को पाए.
अगर आपकी राहों मे कभी अंधेरा आए,
तो रोशनी के लिए खुदा हमको जलाए

--------------------------------------------------------------

जब कोई ख्याल दिल से टकराता है ॥

दिल ना चाह कर भी, खामोश रह जाता है ॥
कोई सब कुछ कहकर, प्यार जताता है॥
कोई कुछ ना कहकर भी, सब बोल जाता है ॥

--------------------------------------------------------------

गुल को गुलाब बना देते,

गुलाब को कमल बना देते,
जानम तुम हम पर मरते नहीं,
वरना जोधपुर में भी ताजमहल बना देते!

--------------------------------------------------------------

बड़ी मुश्किल से बना हूँ टूट जाने के बाद,

मैं आज भी रो देता हूँ मुस्कुराने के बाद

तुझसे मोहब्बत थी मुझे बेइन्तहा लेकिन,
अक्सर ये महसूस हुआ तेरे जाने के बाद

अब तक ढून्ढ रहा हूँ मैं अपने अन्दर के उस शख्स को,
जो नज़र से खो गया है नज़र आने के बाद

---------------------------------------------------------------

इतनी पीता हू की मदहोश रहता हू.
सब कुछ समझता हू पर खामोश रहता हू
जो लोग करते ह मुझे गिराने की कोशिश
मे अक्सर उन्ही के साथ रहता हू|